08 सितंबर 2016

बीती विभावरी जाग री! jai shankar prasad

बीती विभावरी जाग री!
-jay shankar prasad 

बीती विभावरी जाग री!
अम्बर पनघट में डुबो रही
तारा घट ऊषा नागरी।
खग कुल-कुल सा बोल रहा,
किसलय का अंचल डोल रहा,
लो यह लतिका भी भर लाई
मधु मुकुल नवल रस गागरी।
 


अधरों में राग अमंद पिये,
अलकों में मलयज बंद किये
तू अब तक सोई है आली
आँखों में भरे विहाग री।


ddayaram.blogspot.com +13 अधिक

कोई टिप्पणी नहीं: