15/1/19

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती - सोहनलाल द्विवेदी

                                           




लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

असफलता एक चुनौती है, स्वीकार करो
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो
जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम
संघर्ष का मैदान छोड़ मत भागो तुम
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

वह देश कौन सा है - रामनरेश त्रिपाठी

                                           


मन-मोहिनी प्रकृति की गोद में जो बसा है।
सुख-स्वर्ग-सा जहाँ है वह देश कौन-सा है?

जिसका चरण निरंतर रतनेश धो रहा है।
जिसका मुकुट हिमालय वह देश कौन-सा है?

नदियाँ जहाँ सुधा की धारा बहा रही हैं।
सींचा हुआ सलोना वह देश कौन-सा है?

जिसके बड़े रसीले फल, कंद, नाज, मेवे।
सब अंग में सजे हैं, वह देश कौन-सा है?

जिसमें सुगंध वाले सुंदर प्रसून प्यारे।
दिन रात हँस रहे है वह देश कौन-सा है?

मैदान, गिरि, वनों में हरियालियाँ लहकती।
आनंदमय जहाँ है वह देश कौन-सा है?

जिसकी अनंत धन से धरती भरी पड़ी है।
संसार का शिरोमणि वह देश कौन-सा है?

सब से प्रथम जगत में जो सभ्य था यशस्वी।
जगदीश का दुलारा वह देश कौन-सा है?

पृथ्वी-निवासियों को जिसने प्रथम जगाया।
शिक्षित किया सुधारा वह देश कौन-सा है?

जिसमें हुए अलौकिक तत्वज्ञ ब्रह्मज्ञानी।
गौतम, कपिल, पतंजलि, वह देश कौन-सा है?

छोड़ा स्वराज तृणवत आदेश से पिता के।
वह राम थे जहाँ पर वह देश कौन-सा है?

निस्वार्थ शुद्ध प्रेमी भाई भले जहाँ थे।
लक्ष्मण-भरत सरीखे वह देश कौन-सा है?

देवी पतिव्रता श्री सीता जहाँ हुईं थीं।
माता पिता जगत का वह देश कौन-सा है?

आदर्श नर जहाँ पर थे बालब्रह्मचारी।
हनुमान, भीष्म, शंकर, वह देश कौन-सा है?

विद्वान, वीर, योगी, गुरु राजनीतिकों के।
श्रीकृष्ण थे जहाँ पर वह देश कौन-सा है?

विजयी, बली जहाँ के बेजोड़ शूरमा थे।
गुरु द्रोण, भीम, अर्जुन वह देश कौन-सा है?

जिसमें दधीचि दानी हरिचंद कर्ण से थे।
सब लोक का हितैषी वह देश कौन-सा है?

बाल्मीकि, व्यास ऐसे जिसमें महान कवि थे।
श्रीकालिदास वाला वह देश कौन-सा है?

निष्पक्ष न्यायकारी जन जो पढ़े लिखे हैं।
वे सब बता सकेंगे वह देश कौन-सा है?

छत्तीस कोटि भाई सेवक सपूत जिसके।
भारत सिवाय दूजा वह देश कौन-सा है?

13/1/19

बीन भी हूँ मैं तुम्हारी रागिनी भी हूँ -महादेवी वर्मा


                              


बीन भी हूँ मैं तुम्हारी रागिनी भी हूँ!

नींद थी मेरी अचल निस्पन्द कण कण में,

प्रथम जागृति थी जगत के प्रथम स्पन्दन में,

प्रलय में मेरा पता पदचिन्‍ह जीवन में,

शाप हूँ जो बन गया वरदान बंधन में

कूल भी हूँ कूलहीन प्रवाहिनी भी हूँ!

बीन भी हूँ मैं...


नयन में जिसके जलद वह तृषित चातक हूँ,

शलभ जिसके प्राण में वह निठुर दीपक हूँ,

फूल को उर में छिपाए विकल बुलबुल हूँ,

एक होकर दूर तन से छाँह वह चल हूँ,

दूर तुमसे हूँ अखंड सुहागिनी भी हूँ!

बीन भी हूँ मैं...


आग हूँ जिससे ढुलकते बिंदु हिमजल के,

शून्य हूँ जिसके बिछे हैं पाँवड़े पलके,

पुलक हूँ जो पला है कठिन प्रस्तर में,

हूँ वही प्रतिबिम्ब जो आधार के उर में,

नील घन भी हूँ सुनहली दामिनी भी हूँ!

बीन भी हूँ मैं...


नाश भी हूँ मैं अनंत विकास का क्रम भी

त्याग का दिन भी चरम आसिक्त का तम भी,

तार भी आघात भी झंकार की गति भी,

पात्र भी, मधु भी, मधुप भी, मधुर विस्मृति भी,

अधर भी हूँ और स्मित  भी हूँ

मधुर-मधुर मेरे दीपक जल - महादेवी वर्मा

                          
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल!
युग-युग प्रतिदिन प्रतिक्षण प्रतिपल
प्रियतम का पथ आलोकित कर!

सौरभ फैला विपुल धूप बन
मृदुल मोम-सा घुल रे, मृदु-तन!
दे प्रकाश का सिन्धु अपरिमित,
तेरे जीवन का अणु गल-गल
पुलक-पुलक मेरे दीपक जल!

तारे शीतल कोमल नूतन
माँग रहे तुझसे ज्वाला कण;
विश्व-शलभ सिर धुन कहता मैं
हाय, न जल पाया तुझमें मिल!
सिहर-सिहर मेरे दीपक जल!

जलते नभ में देख असंख्यक
स्नेह-हीन नित कितने दीपक
जलमय सागर का उर जलता;
विद्युत ले घिरता है बादल!
विहँस-विहँस मेरे दीपक जल!

द्रुम के अंग हरित कोमलतम
ज्वाला को करते हृदयंगम
वसुधा के जड़ अन्तर में भी
बन्दी है तापों की हलचल;
बिखर-बिखर मेरे दीपक जल!

मेरे निस्वासों से द्रुततर,
सुभग न तू बुझने का भय कर।
मैं अंचल की ओट किये हूँ!
अपनी मृदु पलकों से चंचल
सहज-सहज मेरे दीपक जल!

सीमा ही लघुता का बन्धन
है अनादि तू मत घड़ियाँ गिन
मैं दृग के अक्षय कोषों से-
तुझमें भरती हूँ आँसू-जल!
सहज-सहज मेरे दीपक जल!

तुम असीम तेरा प्रकाश चिर
खेलेंगे नव खेल निरन्तर,
तम के अणु-अणु में विद्युत-सा
अमिट चित्र अंकित करता चल,
सरल-सरल मेरे दीपक जल!

तू जल-जल जितना होता क्षय;
यह समीप आता छलनामय;
मधुर मिलन में मिट जाना तू
उसकी उज्जवल स्मित में घुल खिल!
मदिर-मदिर मेरे दीपक जल!
प्रियतम का पथ आलोकित कर!

6/1/19

औरत पालने को कलेजा चाहिये - शैल चतुर्वेदी


एक दिन बात की बात में
बात बढ़ गई
हमारी घरवाली
हमसे ही अड़ गई
हमने कुछ नहीं कहा
चुपचाप सहा
कहने लगी-"आदमी हो
तो आदमी की तरह रहो
आँखे दिखाते हो
कोइ अहसान नहीं करते
जो कमाकर खिलाते हो
सभी खिलाते हैं
तुमने आदमी नहीं देखे
झूले में झूलाते हैं

देखते कहीं हो
और चलते कहीं हो
कई बार कहा
इधर-उधर मत ताको
बुढ़ापे की खिड़की से
जवानी को मत झाँको
कोई मुझ जैसी मिल गई
तो सब भूल जाओगे
वैसे ही फूले हो
और फूल जाओगे

चन्दन लगाने की उम्र में
पाउडर लगाते हो
भगवान जाने
ये कद्दू सा चेहरा किसको दिखाते हो
कोई पूछता है तो कहते हो-
"तीस का हूँ।"
उस दिन एक लड़की से कह रहे थे-
"तुम सोलह की हो
तो मैं बीस का हूँ।"
वो तो लड़की अन्धी थी
आँख वाली रहती
तो छाती का बाल नोच कर कहती
ऊपर ख़िज़ाब और नीचे सफेदी
वाह रे, बीस के शैल चतुर्वेदी

हमारे डैडी भी शादी-शुदा थे
मगर क्या मज़ाल
कभी हमारी मम्मी से भी
आँख मिलाई हो
मम्मी हज़ार कह लेती थीं
कभी ज़ुबान हिलाई हो

कमाकर पांच सौ लाते हो
और अकड़
दो हज़ार की दिखाते हो
हमारे डैडी दो-दो हज़ार
एक बैठक में हाल जाते थे
मगर दूसरे ही दिन चार हज़ार
न जाने, कहाँ से मार लाते थे

माना कि मैं माँ हूँ
तुम भी तो बाप हो
बच्चो के ज़िम्मेदार
तुम भी हाफ़ हो
अरे, आठ-आठ हो गए
तो मेरी क्या ग़लती
गृहस्थी की गाड़ी
एक पहिये से नहीं चलती

बच्चा रोए तो मैं मनाऊँ
भूख लगे तो मैं खिलाऊँ
और तो और
दूध भी मैं पिलाऊँ
माना कि तुम नहीं पिला सकते
मगर खिला तो सकते हो
अरे बोतल से ही सही
दूध तो पिला सकते हो
मगर यहाँ तो खुद ही
मुँह से बोतल लगाए फिरते हैं
अंग्रेज़ी शराब का बूता नहीं
देशी चढ़ाए फिरते हैं
हमारे डैडी की बात और थी
बड़े-बड़े क्लबो में जाते थे
पीते थे, तो माल भी खाते थे
तुम भी चने फांकते हो
न जाने कौन-सी पीते हो
रात भर खांसते हो

मेरे पैर का घाव
धोने क्या बैठे
नाखून तोड़ दिया
अभी तक दर्द होता है
तुम सा भी कोई मर्द होता है?
जब भी बाहर जाते हो
कोई ना कोई चीज़ भूल आते हो
न जाने कितने पैन, टॉर्च
और चश्मे गुमा चुके हो

अब वो ज़माना नहीं रहा
जो चार आने के साग में
कुनबा खा ले
दो रुपये का साग तो
अकेले तुम खा जाते हो
उस वक्त क्या टोकूं
जब थके मान्दे दफ़्तर से आते हो

कोई तीर नहीं मारते
जो दफ़्तर जाते हो
रोज़ एक न एक बटन तोड़ लाते हो
मैं बटन टाँकते-टाँकते
काज़ हुई जा रही हूँ
मैं ही जानती हूँ
कि कैसे निभा रही हूँ
कहती हूँ, पैंट ढीले बनवाओ
तंग पतलून सूट नहीं करतीं
किसी से भी पूछ लो
झूठ नहीं कहती
इलैस्टिक डलवाते हो
अरे, बेल्ट क्यूँ नहीं लगाते हो
फिर पैंट का झंझट ही क्यों पालो
धोती पहनो ना,
जब चाहो खोल लो
और जब चाहो लगा लो

मैं कहती हूँ तो बुरा लगता है
बूढ़े हो चले
मगर संसार हरा लगता है
अब तो अक्ल से काम लो
राम का नाम लो
शर्म नहीं आती
रात-रात भर
बाहर झक मारते हो

औरत पालने को कलेजा चाहिये
गृहस्थी चलाना खेल नहीं
भेजा चहिये।"


किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार


कवि सम्मेलन, टुकड़े-टुकड़े हूटिंग - शैल चतुर्वेदी

                        


एक कवि सम्मेलन में
ऐसे श्रोता मिल गए
जिनकी कृपा से
कवियों के कलेजे हिल गए

एक अधेड़ कवि ने जैसे ही गाया-
" उनका चेहरा गुलाब क्या कहिए।"
सामने से आवाज़ आई-
" लेके आए जुलाब क्या कहिए।"
और कवि जी
जुलाब का नाम सुनते ही
अपना पेट पकड़कर बैठ गए
दूसरे कवि ने माइक पर आते ही
भूमिका बनाई-
"न तो कवि हूँ
न कविता बनाता हूँ।"
आवाज़ आई-
"तो क्या बेवक़ूफ़ बनाता है भाई।"
कवि को पसीना आ गया
और वह घबराहट में
किसी और का गीत गा गया-
"जब-जब घिरे बदरिया कारी
नैनन नीर झरे।"
आवाज़ आई-"तुम भी कहाँ जाकर मरे
यह कविता तो
लखनऊ वाली कवयित्री की है।"
कवि बोला-"हमने ही उसे दी है।"
आवाज़ आई-"पहले तो पल्ला पकड़ते हो
और जब हाथ से निकल जाती है
तो हल्ला करते हो।"
संयोजक ने संचालक से कहा-
"कविता मत सुनवाओ
जिसके पास गला है
उसको बुलवाओ।"
गले वाला कवि मुस्कुराया
और जैसे ही उसने नमूना दिखाया-
चटक म्हारा चम्पा आई रे रूत थारी
कोई श्रोता चिल्लाया-
"किस लोक गीत से मारी।"
कवि बोला-"हमारी है हमारी
विश्वास ना हो तो संचालक से पूछ लो।"
संचालक बोला-"गाओ या मत गाओ
मैं झूठ नहीं बोलता
गवाही मुझसे मत दिलवाओ।"

संचालक ने दूसरे कवि से कहा-
"गोपालजी आप ही आइए
ये श्रोता रूपी कैरव
कविता को नंगा कर रहे हैं
लाज बचाइए।"

गोपालजी जैसे ही शुरू हुए-
"तू ही साक़ी
तू ही बोतल
तू ही पैमाना"
किसी ने पूछा-"गुरू!
ये कविसम्मेलन है या मैख़ाना।"
कवि बोला-"मैं खानदानी कवि हूँ
मुझसे मत टकराना"
आवाज़ आई-"क्या आप के बाप भी कवि थे।"
कवि बोला-"जी हाँ, थे
मगर आप ये क्यों पूछ रहे हैं।"
उत्तर मिला-"हम आपकी बेवक़ूफ़ी की जड़ ढूंढ रहे हैं।"

अबकी बार-
एक आशुकवि को उठाया गया-
उसने कहा-"आपने हमें कई बार सुना है।"
आवाज़ आई-"जी हाँ आपकी बकवास सुनकर
कई बार सिर धुना है"
कवि बोला-"संभलकर बोलना
हमारे पास कलेज़ा है
उपर से नीचे तक भेजा ही भेजा है।"
किसी ने पूछा-"आपको किसने भेजा है?"
कवि बोला-"हम बनारस में रहते हैं
रस हमारे यहाँ ही बनते है।"
उत्तर मिला-"यहाँ के श्रोता मुश्किल से बनते है
बकवास नहीं कविता सुनते है।"
कवि बोला-"कविता तो कविता
हम अख़बार तक को गा कर पढ़ सकते हैं
मंच पर ही नहीं
छाती पर भी चढ़ सकते है।"
आवाज़ आई -"यहा से दारासिंग भी
आड़ासिंग होकर गए है।"
कवि बोला-"हम दारासिंग नहीं हैं
दुधारासिंग हैं
दोनो तरफ धार रखते हैं
कवि होकर भी कार रखते हैं।"
संचालक बोला-"बेकार मुंह मत लड़ाओ
कविता हो तो सुनाओ।"
कवि ने संचालक को पलटकर कहा-
"अच्छा! हमारी बिल्ली हम से ही म्याऊँ
कविता क्या होती है सुनाऊँ
संचालक में छुपा है चालक
घुसा हुआ लक चालक में।"
कोई श्रोता बोला-"कविता छोड़ के
काम कीजिए
नौटंकी या नाटक में।"
कवि हाज़िर जवाब था
दूध की बोतल में शराब था
बोला-"जी हाँ!
नौटंकी या रामलीला में काम करेंगे
और आप जैसे तो चार बन्दर
हमारे हाथ मरेंगे।"
उत्तर मिला-आपकी बगल में बैठे हनुमानजी
हमारी सहायता करेंगे।
आशुकवि के बैठते ही
हास्य कवि ने मज़मा लगाया-
"लो आ गए हम सभा में
देखना अब रंग आएगा
कि रावण को चटाता धूल
अब बजरंग आएगा।"
कई श्रोता एक साथ चिल्लाए-
"बजरंग बली की जै"
कवि बोला-"जै बोल लो
य कविता सुन लो।"
उत्तर मिला-"कविता और आप
महापाप महापाप।"
कवि बोला-"पाप कहो या बाप
मैं नहीं बैठूंगा
गैर उठें तेरी महफ़िल से तो मैं बैठूं
शनीचर जब चला जाता है
तो इतवार आता है।"
आवाज़ आई-"इस शनिवार को तेल पिलाईए
और इतवार को बुलाइए।"
कवि बोला मैं ही इतवार हूँ।"
आवाज़ आई-"छुट्टी कीजिए
और सोमवार जी को आने दीजिए।"

सिमवार जी ने माइक पर आते ही
महिलाओं पर दृष्टी जमाई
और टाई को मोड़ते हुए
एक ग़ज़ल सुनाई।"
एक श्रोता बोला-"गला क्या है बांसुरी है।"
दूसरा बोला-ऊपर से नीचे तक छुरी है।"
तीसरे ने कहा-"वाकई खूब गाता है।"
चौथा बोला-"लेकिन महिलाओं को सुनाता है।"
कवि ने फौरन मक़ता पेश किया-
"हम दौरे इंक़लाब समझते हैं उसको मोम
ख़ाके ज़मीं के साथ अगर कहकशां चले।"
किसी ने तुक मारी-
"बदनाम करके प्रीतम मुझ को कहाँ चले।"
कवि ने स्वर बदला-
"रूप तुम्हारा मन में कस्तूरी बो गया।"
आवाज़ आई-"गीत पढ़ रहे हो
या खेती कर रहे हो।"
कवि बैठते हुए बोला-"ऐसा रिसपाँस मिलेगा
तो खेती ही करनी पड़ेगी।"

अब व्यंग्यकार को पुकारा गया-
नशे के आसमान से
ज़मीन पर उतारा गया
व्यंग्यकार ने माइक पकड़कर
लड़खड़ाते हुए कहा-
"देश लड़खड़ा रहा है, सम्भालो।"
आवाज़ आई-"थोड़ी सी और लगा लो।"
कवि बोला-"आप मेरा नहीं
हिन्दी साहित्य का अपमान कर रहें हैं।"
उत्तर मिला-"जी हाँ, ज्ञान का सारा आकाश
आप ही के कन्धो पर टिका है
और हिन्दी का सारा साहित्य
आप ही के नाम से बिका है।"
कवि बोला-"हम प्रमाण दे सकते हैं।"
आवाज़ आई-"क्यों नहीं,
आप 'गीतांजलि' को पी सकते हैं
'मेघदूत' को खा सकते हैं
और 'कामायनी' तक पर
उंगुली उठा सकते हैं।"
कवि बोला-"हमने दिल्ली से मद्रास तक
बड़े-बड़े मंचो को हिलाया हैं।
उत्तर मिला-"ये और कह दो
कि निराला को गोद में खिलाया है।"
व्यंग्यकार बैठते हुए बोला-
"अरे हट, ये भी कोई श्रोता हैं।"
कई बोला-"आप जैसो के लिये सरोता हैं।"

इतनी देर बाद संचालक को अक़्ल आई
तो उसने मंच पर अपनी माया फैलाई
कवयित्री की ग़ज़ल गूंजी।
"सुबह न आया, शाम न आया
उनका कोई पैगाम न आया।"
आवाज़ आई-"इंतज़ार बेकार हैं
पोस्टमैन बिमार है।"
कवयित्री बोली-"शोर मत मचाओ
दम है तो मंच पर आ जाओ।"
उत्तर मिला-"इक्यावन रूपये लूंगा।"
संयोजक बोला-"बहिन जी उसे रोकिए
मैं एक पैसा भी नहीं दूंगा।
वो लोकल कवि है
इक्यावन रूपये में बावन कविताएँ सुनाएगा
और मंच पर रखे हुए सारे पान
अकेले खा जएगा।"

संचालक ने हारकर धीरज जी को बुलाया
माइक नीचे झुकाया
मसनद नीचे लगाया
जी बोले-"मैं आ गया हूँ, बजाओ
तालियाँ बजाओ।"
कई आवाज़े एक साथ आई-
"पहले कव्वाली सुनाओ"
मुंह पर मुठ्ठी बांधकर
नज़ले को भीतर खींचते हुए
और दाँतो को भींचते हुए
जैसे ही धीरज जी शुरु हुए-
"छुपे रुस्तम है क़यामत की नज़र रखते हैं।"
आवाज़ आई-"व्हिस्की मिलती है कहाँ
इसकी खबर रखते हैं।"
धीरज ने कव्वाली रोकी
और सन्योजक से बोले-
"आप तो कह रहे थे यहाँ नहीं मिलती।"
सन्योजक बोला- "व्हिस्की नहीं, ठर्रा मिलता है।"
कविवर ऐश जी और बागी जी
एक साथ बोले-"मंगवा दो अपुन को चलता है।"
तभी संचालक ने घोषणा की-"आ गए, आ गए
कविवर नौटंकीलाल आ गए
मुश्किल से आ पाए है
ट्रेन छूट गई
प्लेन से आए हैं
देखिए वो आ रहे हैं
गलत मत समझियएगा
यात्रा की थकान है न
इसीलिए लड़खड़ा रहे हैं।"

चमचों से घिरे हुए
'शोर' मचाते
'पूरब को पश्चिम' से मिलाते
और 'क्रांती' के गीत गुनगुनाते
कविवर नौटंकीलाल
कवियों को दाँत दिखाकर
जनता की और घूम गए
और माइक को नायिका समझकर
उससे झूम गए
बोले-"हाँ तो मेरी जान, मेरे मीत
लो, सुन लो
मेरी नई-नई फ़िल्म का धांसू गीत
"अर र र र र र र हुर्र
मेरे दिल का पिंजरा छोड़ के
हो मत जाना फुर्र
अरे रे मेरी सोन चिरैया।"
आवाज़ आई-"यहाँ सब पढ़े लिखे है भैया।"

तभी कोई चिल्लाया-
"सांप, सांप, सांप।"
और सारा पंडाल
हो गया साफ
कवि सम्मेलन ध्वस्त होने के पश्चात
किसी कवि ने संचालक से पूछा-
"क्यों गुरू! जूतों का कहीं पता है।"
संचालक बोला-"जूतों को मारो गोली
सन्योजक लापता है।"


किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार




गांधी की गीता - शैल चतुर्वेदी

                          
गरीबों का पेट काटकर
उगाहे गए चंदे से
ख़रीदा गया शाल
देश (अपने) कन्धो पर डाल
और तीन घंटे तक
बजाकर गाल
मंत्री जी ने
अपनी दृष्टी का संबन्ध
तुलसी के चित्र से जोड़ा
फिर रामराज की जै बोलते हुए
(लंच नहीं) मंच छोड़ा
मार्ग में सचिव बोला-
"सर, आपने तो कमाल कर दिया
आज तुलसी जयंती है
और भाषण गांधी पर दिया।"

मूँछो में से होंठ बाहर निकालकर
सचिव की ओर
आध्यात्मिक दृष्टि डालकर
मंत्री जी ने
दिव्य नयन खोले
और मुस्कुराकर बोले-
"तुलसी और गांधी में
कैसे अंतर?
दोनों ही महात्मा
कट्टर धर्मात्मा
वे सतयुग के
ये कलयुग के
तुलसी ने रामायण लिखी
गांधी ने गीता
तुमने तुलसीकृत
वाल्मीकी रामायण पढ़ी है?
नहीं पढ़ी न!
मुझे भी समय नहीं मिलता
मगर सुना है-
आज़ादी कि रक्षा के लिए
राम और रावण में
जो महाभारत हुआ
उसका आँखो देखा हाल
रामायण में देकर
तुलसी ने कर दिया कमाल
और गांधी की गीता में
क्या-क्या जौहर दिखलाए हैं
आज़ादी की सीता ने
तुमने पढ़ी है गीता?
मुझे भी समय नहीं मिलता
विनोबा जी से सुनी है
भाई, खूब सुनाते हैं
एक-एक चौपाई पर
गांधी साकार हो जाते हैं।"
सचिव ने आश्चर्य से पूछा-
"गीता में चौपाई?"
मंत्री जी बोले-"हमारा सचिव होते हुए
यह पूछते तुम्हें शर्म नहीं आई।"



किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार