02 अक्तूबर 2016

उर्वशी / रामधारी सिंह दिनकर /द्वितीय अंक /पाँच भाग


प्रियवचनशतोअपि योषितां दयितजनानुनयो रसादृते,
प्रविशति हृदयं न तद्विदां मणिरिव कृतिमरागयोजित:.
-विक्रमोर्वशीयं

[प्रतिष्ठानपुर का राजभवन : पुरुरवा की महारानी औशीनरी अपनी दो सखियों के साथ]


औशीनरी
तो वे गये?

निपुणिका
गये ! उस दिन जब पति का पूजन करके
लौटीं, आप प्रमदवन से संतोष हृदय मॅ भरके
लेकर यह विश्वास, रोहिणी और चन्द्रमा जैसे
हैं अनुरक्त, आपके प्रति भी महाराज अब वैसे
प्रेमासक्त रहेंगे, कोई भी न विषम क्षण होगा,
अन्य नारियॉ पर प्रभु का अनुरक्त नहीं मन होगा,
तभी भाग्य पर देवि ! आपके कुटिल नियतमुसकाई,
महाराज से मिलने को उर्वशी स्वर्ग से आई.

औशीनरी
फिर क्या हुआ ?

निपुणिका
देवि, वह सब भी क्या अनुचरी कहेगी ?

औशीनरी
पगली ! कौन व्यथा है जिसको नारी नहीं सहेगी ?
कह्ती जा सब कथा, अग्नि की रेखा को चलने दे,
जलता है यदि हृदय अभागिन का,उसको जलने दे.
सानुकूलता कितनी थी उस दिन स्वामी के स्वर मॅ !
समझ नहीं पाती, कैसे वे बदल गए क्षण भर मॅ !
ऐसी भी मोहिनी कौन-सी परियाँ कर सकती हैं,
पुरुषॉ की धीरता एक पल मॅ यॉ हर सकती हैं !
छला अप्सरा ने स्वामी को छवि से या माया से?
प्रकटी जब उर्वशी चन्द्नी मॅ द्रुम की छाया से,
लगा, सर्प के मुख से जैसे मणि बाहर निकली हो,
याकि स्वयं चाँदनी स्वर्ण-प्रतिमा मॅ आन ढली हो;
उतरी हो धर देह स्वप्न की विभा प्रमद-उपवन की,
उदित हुई हो याकि समन्वित नारीश्री त्रिभुवंकी.
कुसुम-कलेवर मॅ प्रदीप्त आभा ज्वालामय मन की,
चमक रही थी नग्न कांति वसनो से छन कर तन की.
हिमकम-सिक्त-कुसुम-सम उज्जवल अंग-अंग झलमल था,
मानो, अभी-अभी जल से निकला उत्फुल्ल कमल था
किसी सान्द्र वन के समान नयनॉ की ज्योति हरी थी,
बड़ी-बड़ी पलकॉ के नीचे निद्रा भरी-भरी थी.
अंग-अंग मॅ लहर लास्य की राग जगानेवाली,
नर के सुप्त शांत शोणित मॅ आग लगानेवाली.

'मदनिका
सुप्त, शांत कहती हो?
जलधारा को पाषाणॉ मॅ हाँक रही जो शक्ति,
वही छिप कर नर के प्राणॉ मॅ दौड़-दौड़
शोणित प्रवाह मॅ लहरें उपजाती है,
महाराज ने देख उर्वशी को अधीर अकुलाकर,
बाँहॉ मॅ भर लिया दौड़ गोदी मॅ उसे उठाकर
समा गई उर-बीच अप्सरा सुख-सम्भार-नता-सी,
पर्वत के पंखॉ मॅ सिमटी गिरिमल्लिका-लता-सी.

और प्रेम-पीड़ित नृप बोले, “क्या उपचार करुँ मैं?
सुख की इस मादक तरंग को कहाँ समेट धरु मैं?
गहा चाहता सिन्धु प्राण का कौन अदृश्य किनारा?
छुआ चाहती किसे हृदय को फोड़ रक्त की धारा?
कौन सुरभि की दिव्य बेलि प्राणॉ मॅ गमक उठी है?
नई तारिका कौन आज मूर्धा पर चमक उठी है?
किस पाटल के गन्ध-विकल दल उड़कर अनिल-लहर मॅ
मन्द-मन्द तिर रहे आज प्राणॉ के मादक सर मॅ?
सुगम्भीर सुख की समाधि यह भी कितनी निस्तल है?
डूबें प्राण जहाँ तक, रस-ही-रस है, जल-ही-जल है.
प्राणॉ की मणि! अयि मनोज्ञ मोहिनी! दुरंत विरह मॅ
नहीं झेलता रहा वेदनाएँ क्या-क्या दुस्सह मैं?
दिवा-रात्रि उन्निद पलॉ मॅ तेरा ध्यान संजोकर
काट दिए आतप, वर्षा, हिमकाल सतत रो-रोकर.
विदा समय तूने देखा था जिस मधुमत्त नयन से,
वह प्रतिमा, वह दृष्टि न भूली कभी एक क्षण मन से.
धरते तेरा ध्यान चाँद्नी मन मॅ छा जाती थी,
चुम्बन की कल्पना मन मॅ सिहरन उपजाती थी.
मेघॉ मॅ सर्वत्र छिपी मेरा मन तू हरती थी,
और ओट लेकर विधु की संकेत मुझे करती थी.
फूल-फूल मॅ यही इन्दु-मुख आकर्षण उपजाकर,
छिप जाता सौ बार बिहँस इगित से मुझे बुलाकर.
रस की स्रोतस्विनी यही प्राणॉ मॅ लहराती थी,
दाह-दग्ध सैकत को, पर, अभिसिक्त न कर पाती थी.
किंतु, आज आषाढ, घनाली छाई मतवाली है,
मुझे घेरकर खड़ी हो गई नूतन हरियाली है.
प्राणेश्वरी! मिलन-सुख को, नित होकर संग वरें हम,
मधुमय हरियाले निकुंज मॅ आजीवन विचरॅ हम”

औशीनरी
आजीवन वे साथ रहेंगे? तो अब क्या करना है?
जीते जी यह मरण झेलने से अच्छा मरना है

निपुणिका
मरण श्रेष्ठ है, किंतु, आपको वह भी सुलभ नहीं है.
जाते समय मंत्रियॉ से प्रभु ने यह बात कही है;
”एक वर्ष पर्यंत गन्धमादन पर हम विचरेंगे,
प्रत्यागत हो नैमिषेय नामक शुभ यज्ञ करेंगे.”
विचरें गिरि पर महाराज हो वशीभूत प्रीता के,
यज्ञ न होगा पूर्ण बिना कुलवनिता परिणिता के.

औशीनरी
इसी धर्म के लिए आपको भुवनेश्वरी जीना है
हाय, मरण तक जेकर मुझको हालाहल पीना है
जाने, इस गणिका का मैने कब क्या अहित किया था,
कब, किस पूर्वजन्म मॅ उसका क्या सुख छीन लिया था,
जिसके कारण भ्रमा हमारे महाजन की मति को,
छीन ले गई अधम पापिनी मुझसे मेरे पति को.
ये प्रवंचिकाएँ, जानें, क्यॉ तरस नहीं खाती हैं,
निज विनोद के हित कुल-वामाऑ को तड़पाती हैं.
जाल फेंकती फिरती अपने रूप और यौवन का,
हँसी-हँसी मॅ करती हैं आखेट नरॉ के मन का.
किंतु, बाण इन व्याधिनियॉ के किसे कष्ट देते हैं?
पुरुषॉ को दे मोद प्राण वे वधुऑ के लेते हैं

निपुणिकापर, कैसी है कृपा भाग्य की इस गणिका के ऊपर!
बरस रहा है महाराज का सारा प्रेम उमड़कर.
जिधर-जिधर उर्वशी घूमती, देव उधर चलते हैं
तनिक श्रांत यदि हुई व्यजन पल्लव-दल से झलते हैं.
निखिल देह को गाढ दृष्टि के पय से मज्जित करके
अंग-अंग किसलय, पराग, फूलॉ से सज्जित करके,
फिर तुरंत कहते “ये भी तो ठीक नहीं जंचते हैं ‘’
भाँति-भाँति के विविध प्रसाधन बार-बार रचते हैं

और उर्वशी पीकर सब आनन्द मौन रहती है
अर्धचेत पुलकातिरेक मॅ मन्द-मन्द बहती है
मदनिका इसमॅ क्या आश्चर्य?
प्रीति जब प्रथम-प्रथम जगती है,
दुर्लभ स्वप्न समान रम्य नारी नर को लगती है


कितनी गौरवमयी घड़ी वह भी नारी जीवन की
जब अजेय केसरी भूल सुध-बुध समस्त तन-मन की
पद पर रहता पड़ा, देखता अनिमिष नारी-मुख को,
क्षण-क्षण रोमाकुलित, भोगता गूढ़ अनिर्वच सुख को!
यही लग्न है वह जब नारी, जो चाहे, वह पा ले,
उडुऑ की मेखला, कौमुदी का दुकूल मंगवा ले.
रंगवा ले उंगलियाँ पदों की ऊषा के जावक से
सजवा ले आरती पूर्णिमा के विधु के पावक से.

तपोनिष्ठ नर का संचित ताप और ज्ञान ज्ञानी का,
मानशील का मान, गर्व गर्वीले, अभिमानी का,
सब चढ़ जाते भेंट, सहज ही प्रमदा के चरणों पर
कुछ भी बचा नहीं पाटा नारी से, उद्वेलित नर.

किन्तु, हाय, यह उद्वेलन भी कितना मायामय है !
उठता धधक सहज जिस आतुरता से पुरुष ह्रदय है,
उस आतुरता से न ज्वार आता नारी के मन में
रखा चाहती वह समेटकर सागर को बंधन में.

”’औशीनरी”’
किन्तु बन्ध को तोड़ ज्वार नारी में जब जगता है
तब तक नर का प्रेम शिथिल, प्रशमित होने लगता है.
पुरुष चूमता हमें, अर्ध-निद्रा में हमको पाकर,
पर, हो जाता विमिख प्रेम के जग में हमें जगाकर.

और जगी रमणी प्राणों में लिए प्रेम की ज्वाला,
पंथ जोहती हुई पिरोती बैठ अश्रु की माला.
वही आंसुओं की माला अब मुझे पिरोनी होगी.

निपुणिका
इसी भाँती क्या महाराज भी होंगे नहीं वियोगी ?
आप सद्र्श सन्नारी को यदि राजा ताज सकते हैं,
आँख मूंद स्वर्वेश्या को कब तक वे भज सकते हैं ?
औशीनरी
कौन कहे ? यह प्रेम ह्रदय की बहुत बड़ी उलझन है.
जो अलभ्य, जो दूर,उसी को अधिक चाहता मन है.

मदनिका
उस पर भी नर में प्रवृत्ति है क्षण-क्षण अकुलाने की,
नई-नई प्रतिमाओं का नित नया प्यार पाने की.
वश में आई हुई वास्तु से इसको तोष नहीं है,
जीत लिया जिसको, उससे आगे संतोष नहीं है.

नई सिद्धि-हित नित्य नया संघर्ष चाहता है नर,
नया स्वाद, नव जय, नित नूतन हर्ष चाहता है नर.
करस्पर्श से दूर, स्वप्न झलमल न्र को भाता है,
चहक कर जिसको पी न सका,वह जल नर को भाता है.
ग्रीवा में झूलते कुसुम पर प्रीती नहीं जगती है,
जो पड़ पर चढ़ गयी, चांदनी फीकी वह लगती है

क्षण-क्षण प्रकटे, दुरे, छिपे फिर-फिर जो चुम्बन लेकर,
ले समेट जो निज को प्रिय के क्षुधित अंक में देकर;
जो सपने के सदृश बाहु में उड़ी-उड़ी आती हो
और लहर सी लौट तिमिर में ड़ूब-ड़ूब जाती हो,
प्रियतम को रख सके निमज्जित जो अतृप्ति के रस में,
पुरुष बड़े सुख से रहता है उस प्रमदा के बस में.

औशीनरी
गृहिणी जाती हार दाँव सम्पूर्ण समर्पण करके,
जयिनी रहती बनी अप्सरा ललक पुरुष में भर के
पर, क्या जाने ललक जगाना नर में गृहिणी नारी?
जीत गयी अप्सरा, सखी ! मैं रानी बनकर हारी.

निपुणिका
इतना कुछ जानते हुए भी क्यों विपत्ति को आने
 


दिया, और पति को अपने हाथों से बाहर जाने?

महाराज भी क्या कोई दुर्बल नर साधारण हैं,
जिसका चित्त अप्सराएं कर सकती सहज हरण हैं?
कार्त्तिकेय -सम शूर, देवताओं के गुरु-सम ज्ञानी,
रावी-सम तेजवंत, सुरपति के सदृश प्रतापी, मानी;
घनाद-सदृश संग्रही, व्योमवत मुक्त, जल्द-निभ त्यागी,
कुसुम -सदृश मधुमय, मनोज्ञ , कुसुमायुध से अनुरागी.

ऐसे नर के लिए न वामा क्या कुछ कर सकती है?
कौन वास्तु है जिसे नहीं चरणों पर धर सकती है?

औशीनरी
अरी, कौन है कृत्य जिसे मैं अब तक न कर सकी हूँ ?
कौन पुष्प है जिसे प्रणय-वेदी पर धर न सकी हूँ ?
प्रभु को दिया नहीं, ऐसा तो पास न कोई धन है.
न्योछावर आराध्य-चरण पर सखि! तन, मन, जीवन है.

तब भी तो भिक्षुणी-सदृश जोहा करती हूँ मुख को,
सड़ा हेरती रहती प्रिय की आँखों में निज सुख को.
पर, वह मिलता नहीं, चमक, जाने क्यों खो गयी कहाँ पर !
जानें, प्रभु के मधुर प्रेम की श्री सो गयी कहाँ पर !

सब कुछ है उपलब्ध, एक सुख वही नहीं मिलता है,
जिससे नारी के अंतर का मान-पद्म खिलता है.
वह सुख जो उन्मुक्त बरस पड़ता उस अवलोकन से,
देख रहा हो नारी को जब नर मधु-मत्त नयन से.

वह अवलोकन, धूल वयस की जिससे छन जाती है,
प्रौढा पाकर जिसे कुमारी युवती बन जाती है.
अति पवित्र निर्झरी क्षीरमय दृग की वह सुखकारी,
जिसमें कर अवगाह नई फिर हो उठाती है नारी.

मदनिका
जब तक यह रस-दृष्टि, तभी तक रसोद्रेक जीवन में,
आलिंगन में पुलक और सिहरन सजीव चुम्बन में.
विरस दृष्टि जब हुई स्वाद चुम्बन का खो जाता है,
दारु-स्पर्श-वत सारहीन आलिंगन हो जाता है.

वपु तो केवल ग्रन्थ मात्र है,क्या हो काय-मिलन से ?
तन पर जिसे प्रेम लिखता,कविता आती वह मन से.
पर, नर के मन को सदैव वश में रखना दुष्कर है,
फूलों से यह मही पूर्ण है और चपल मधुकर है.

पुरुष सदा आक्रांत विचरता मादक प्रणय-क्षुधा से,
जय से उसको तृप्ति नहीं,संतोष न कीर्ति-सुधा से.
असफलता में उसे जननी का वक्ष याद आता है,
संकट में युवती का शय्या-कक्ष याद आता है.

संघर्षों से श्रमित-श्रांत हो पुरुष खोजता विह्वल
सर धरकर सोने को, क्षण-भर, नारी का वक्षस्थल.
आँखों में जब अश्रु उमड़ते, पुरुष चाहता चुम्बन,
और विपद में रमणी के अंगों का गाढालिंगन .

जलती हुई धूप में आती याद छांह की, जल की,
या निकुंज में राह देखती प्रमदा के अंचल की.
और नरों में भी, जो जितना ही विक्रमी, प्रबल है,
उतना ही उद्दाम, वेगमय उसका दीप्त अनल है

प्रकृति-कोष से जो जितना हिएज लिए आता है,
वह उतना ही अनायास फूलों से कट जाता है.
अगम, अगाध, वीर नर जो अप्रतिम तेज-बल-धारी,
बड़ी सहजता से जय करती उसे रूपसी नारी.

तिमिराच्छन्न व्योम-वेधन में जो समर्थ होती है,
युवती के उज्जवल कपोल पर वही दृष्टि सोती है.